Skip to main content

The Monk Who Sold His Ferrari PDF Download free

Can't Hurt Me David Goggins Book Review | Pdf Free Download

 

Can't Hurt Me David Goggins Book Review |



Can't Hurt Me David Goggins Book Review | Pdf Free Download


Details of Can't Hurt Me

  • Book Name: Can't Hurt Me
  • Authors: David Goggins
  • Pages: 400
  • Publish Date: 15 November 2018
  • Language: English
  • Genre: Self-Help Book

Summary


Can't Hurt Me by David Goggins. This book is for you if you need a massive dose of inspiration and motivation to push yourself and take control of your life, and stop playing the role of a victim. 

David Goggins is definitely at the top of this ladder. he had the worst childhood you can imagine. his father used to regularly beat up him his brother and his mother with his belt. all three of them had to do hard manual work for their father's business without getting paid. 

Imagine, being a six-year-old going to school and then spending the rest of your day working and living in trauma. 

When David and his mother finally left his father, they faced extreme poverty. he struggled a lot in school. he was bullied. he faced racism. so he had all the reasons and foundations to become a drug addict or a criminal or even to take his own life. 

But he was very high on the accountability ladder. the physical and mental pain that was a constant in his life, made him very strong. he decided to become a u.s navy seal. 

If you think his childhood was hard, the process to become a navy seal was equally hard - physically and mentally. he had to lose more than 100 pounds in three months. 

He had to study hard to clear the exam and the physical tests which lasted over several weeks, one of which was rightly called "hell week", in which he ran with two broken knees by tying tape over them. 

His struggles in his life continued. he went through a divorce, two heart surgeries because he had a hole in his heart, and many more. although i cannot relate to goggins or the hardships he faced, i still gained a lot from this book. 

For example, the 40% rule. Goggins says that when we are doing something hard physically, and we feel that we have reached our limit and we are ready to give up, actually we are just at about 40% of our limit. our mind gives up way before our body is at its limit. 

So when i'm working out and doing a plank for example, i used to hold it for 10 deep breaths and then give up. that was my limit. but now i think of the 40% rule and I push myself to hold it for 20 deep breaths. 

Also, at other times when I feel that I'm going through something hard or find excuses to not do something because I'm not feeling 100%, I think of what would Goggins do, and that helps me to push myself and stop making these excuses. 

One thing that I liked about this book is at the end of every chapter, there is a one-page challenge for you to help you apply the lesson from that chapter to your life. for example, at the end of one of the chapters, one of the early chapters in the book, there's a challenge called accountability mirror. 

So if you feel like you're making excuses in your life or becoming a victim of your circumstances and you need a jolt to awaken and push yourself and take control of your life, this book is for you! 

Also if you're into physical challenges like marathons, ultramarathons, triathlons, there are many stories about those in this book. have you read this book? what was one thing that you will never forget that Goggins said? 


Also read: I will teach you to be rich by ramit sethi pdf download 

Also read:  Inner engineering book summary PDF Download

Also read:  Set boundaries find peace book Review Pdf download

Also read: Stories that stick kindra hall book review

Also read:  The Granddaughter Project Paperback book review

Also read:  Think again by adam grant book review Pdf Download


THANK YOU SO MUCH 


Comments

Popular posts from this blog

Principles of Reduce Reuse Recycle in Plastic Waste Management Essay in hindi

Principles of Reduce Reuse Recycle in Plastic Waste Management Essay in Hindi प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन में पुन: उपयोग को कम करने के सिद्धांत हिंदी में निबंध  "प्लास्टिक के इस्तेमाल ना करने के प्रति जागरूकता फैलाएं,  देश को प्लास्टिक अपशिष्ट से मुक्त करवाए" प्रस्तावना: दोस्तों, आज प्लास्टिक अपशिष्ट का बढ़ता अंबार मानवीय सभ्यता के लिए सबसे बड़े संकट के रूप में उभर रहा है। आज प्लास्टिक हमारे रोजमर्रा के जीवन का एक ऐसा हिस्सा बन गया है जिसे हम अपने से अलग नहीं कर सकते। आज हमारे फल, सब्जियों, बच्चों के दूध पीने की बोतलें, पानी की बोतलें और भी बहुत सारी चीजें पूरी तरह से प्लास्टिक पर निर्भर है। लेकिन जो प्लास्टिक हमने अपनी सुविधा के । लिए अविष्कार किया था आज वो हमारे पर्यावरण के लिए नासूर बन गया है। समुद्र हो या नदियां, पहाड हो या कोई खाली मैदान हर जगह प्लास्टिक का  अपशिष्ट देखने को मिल रहा है। दोस्तों, प्लास्टिक को नष्ट होने में हजारों साल लग जाते हैं और यह समुद्र, नदियों में पड़ा रहकर हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता रहता है। तो प्लास्टिक के पर्यावरण पर होने वाले नुकसान को देखत

Essay On Innovative Ideas for Zero Plastic Waste hindi

Essay On Innovative Ideas for Zero Plastic Waste in Hindi शून्य प्लास्टिक कचरे के लिए अभिनव विचारों पर निबंध हिंदी में "धरती और पर्यावरण को स्वच्छ रखने में अपनी जिम्मेदारी निभाए,  आओ भविष्य को प्लास्टिक अपशिष्ट मुक्त बनाए " प्रस्तावना  दोस्तों, आज भारत में प्लास्टिक प्रदूषण की समस्या गंभीर रूप लेती जा रही है। आज प्लास्टिक प्रदूषण पर नियंत्रण मानव जाति की सबसे बड़ी जरूरत बन गई है। आज हर इन्सान अपने जीवन में किसी ना किसी रूप में प्लास्टिक का उपयोग कर रहा है। मगर यही प्लास्टिक हमारी धरती और पर्यावरण के लिए नासूर बन गया है।  तो लगातार बढते प्लास्टिक प्रदूषण को कम करने के लिए जल्द से जल्द सख्त कदम उठाने की जरूरत है। दोस्तों, अगर प्लास्टिक को खत्म करना है तो सबसे जरूरी है प्लास्टिक अपशिष्ट के प्रति लोगों में जागरूकता फैलाना।  कहते हैं कि बच्चे देश का भविष्य है अगर वो सही पथ पर चलेंगे तो देश हमेशा विकास की ओर बढेगा। तो ऐसे में प्लास्टिक प्रदूषण को कम करना है तो सबसे जरूरी है कि बच्चों को प्लास्टिक प्रदूषण के नुकसान से अवगत कराना। साथ ही अगर बच्चे प्लास्टिक अपशिष्ट के प्रति जागरूक हो

Reducing single use plastic pollution Role of youth essay in Hindi

  Reducing single-use plastic pollution Role of youth essay in hindi " प्लास्टिक मदद का हाथ देता है लेकिन वे हमारी भूमि को प्रदूषित कर रहे हैं" सिंगल-यूज प्लास्टिक या डिस्पोजेबल प्लास्टिक, केवल एक बार उपयोग किए जाते हैं, उन्हें फेंकने से पहले पुनर्नवीनीकरण किया जाता है। दुनिया भर के हर देश में प्लास्टिक मनुष्य की रोजमर्रा की जिंदगी का एक प्रासंगिक हिस्सा है, प्लास्टिक की थैलियां पर्यावरण प्रदूषण का एक प्रमुख कारण हैं, एक पदार्थ के रूप में प्लास्टिक गैर-बायोडिग्रेडेबल है और इस प्रकार प्लास्टिक की थैलियां पर्यावरण में सैकड़ों वर्षों तक रहती हैं जो इसे अत्यधिक प्रदूषित करती हैं। हमारे ग्रह को पूरी तरह से बर्बाद करने से पहले प्लास्टिक की थैलियों पर प्रतिबंध लगाना बहुत जरूरी हो गया है। प्लास्टिक की थैलियों के उत्पादन से जहरीले रसायन निकलते हैं ये हैं गंभीर बीमारी का मुख्य कारण, प्रदूषित वातावरण va5ious रोग का एक प्रमुख कारण है जो मानव में आसानी से फैल रहा है पशु और समुद्री जीव अनजाने में अपने भोजन के साथ प्लास्टिक के कणों का सेवन कुछ समय बाद करते हैं। प्लास्टिक बैग बोलता है- "